Short Stories In Hindi

छोटी -छोटी बातें बड़ा फर्क डालती हैं चार प्रश्न
जिसे सूरज-चाँद न देखें बीरबल बने मेहमान
सकारात्मक नजरिया थॉमस एडिसन
असली अप्सरा नकारात्मक सोच वाले लोग
असली माँ भी अब मौसी लगे अक्ल बड़ी या भैंस
कल करे सो आज कर पराये भरोसे काम नहीं होता
भला असन्तोष से क्या लाभ छली प्रायः स्वयं छला जाता है
कपटी का अंत बुरा होता है सबको प्रसन्न रखना मुश्किल है
उलटी राय का फल बुरा होता एक और आखिरी प्रयास
दोस्ती की परख खिचड़ी भाषा
माँ ने कहा था मुट्ठी
एक था तोता बाबाजी का भोग
जादू जैसी करनी वैसी भरनी
एक चिड़िया थी ऊंची नहीं फेंकता ऊंट
मगरमच्छ से मुकाबला मेरा कीमती दोस्त
पूसी का प्यार आम तोडना भाड़ी पड़ा